गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के स्कूल का हाल, शौचालय में शिक्षकों ने लगा रखा है ताला, मिड डे मील को भी तरस रहे स्टूडेंट

रिपोर्ट : आलोक कुमार भारती

भोजपुर. आरा सदर प्रखंड के बसंतपुर मध्य विद्यालय का नाम याद है आपको? यह वही मध्य विद्यालय है जहां कभी महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह अपने बचपन में पढ़ा करते थे. यह स्कूल एकबार फिर चर्चा में है. लेकिन इस बार वशिष्ठ नारायण की किसी स्मृति को लेकर नहीं बल्कि अपनी दुर्दशा के कारण वह चर्चा में है. भोजपुर जिले के इस विद्यालय में बुनियादी सुविधाओं की कमी है.

भोजपुर के इस बसंतपुर मध्य विद्यालय में सरकारी लापरवाही की वजह से पिछले 2 महीने से बच्चों को मिड डे मील नहीं मिल रहा. इस स्कूल के शौचालय में शिक्षकों ने ताला लगा रखा है. नतीजतन, छात्र-छात्राओं को ‘हल्का होने के लिए’ स्कूल से बाहर खुली जगह का इस्तेमाल करना पड़ता है.

इस विद्यालय में कक्षा एक से लेकर 8वीं तक पढ़ाई होती है. 7वीं और 8वीं में बड़े उम्र की बच्चियां भी पढ़ती हैं. इन बच्चियों को स्कूल के बाहर की खुली जगह का इस्तेमाल शौचालय की तरह करना पड़ता है. छात्राओं के मुताबिक, स्कूल के बाथरूम में शिक्षकों ने ताला लगा रखा है. जब उन्हें बाथरूम का इस्तेमाल करना होता है तो वे ताला खोलते हैं. बाकी समय ताला बंद रखा जाता है. ऐसे में स्कूल के तमाम छात्र-छात्राओं को ‘हल्का होने के लिए’ खुली जगहों का ही इस्तेमाल करना पड़ता है. इसकी वजह से शर्मिंदगी तो उठानी ही पड़ती है, मन में एक डर हमेशा बना रहता है.

बसंतपुर मध्य विद्यालय की इस स्थिति को लेकर भोजपुर डीईओ से जब बात की गई, तो उन्होंने कहा कि यह मामला आपके जरिए ही संज्ञान में आया है. मध्याह्न भोजन किस कारण से बंद है, इसकी जांच करवाई जाएगी. वहीं, विद्यालय में शौचालय बंद करना गलत बात है. अगर विद्यालय के शिक्षकों ने ऐसा किया है, तो उनसे स्पष्टीकरण की मांग की जाएगी.

See also  NASA के जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप को एग्जोप्लेनेट के वायुमंडल में मिली कार्बन डाइऑक्साइड!

Tags: Bhojpur news, Bihar News

Leave a Reply

Your email address will not be published.