गुरुग्रामः स्पा सेंटर में नौकरी के बहाने 14 वर्षीय नाबाकिग से गैंगरेप, अश्लील वीडियो भी बनाया

गुरुग्राम. अपने भविष्य को बेहतर बनाने की चाह लेकर नौकरी के लिए साइबर सिटी पंहुची मासूम के सारे सपने उस समय काफूर हो गए, जब कुछ बहशी दरिंदों ने उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दे डाला. इतना ही नहीं, जिस स्पा सेंटर में नौकरी के लिये आई थी, उसकी मालकिन व स्टाफ ने अश्लील वीडियो बनाई. पीड़िता की मानें तो स्पा की मालकिन एवम स्टाफ ने वीडियो वायरल करने की धमकी दे उसे जिस्मफरोशी के लिए मजबूर कर डाला. पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने पॉस्को एक्ट, एवम 376 डी ,323, 506 व 34 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

नौकरी की तलाश, पूजा से मुलाकात

पुलिस को दी शिकायत में पीड़िता ने बयान किया है कि वह नौकरी की तलाश में थी. उस दौरान पूजा से उसकी मुलाकात हुई. पूजा ने उसे एक डॉक्टर के क्लीनिक में नौकरी दिलवाने की बात कही, जिस पर वह तैयार हो गई. पूजा ने उसे गुरुग्राम में एक डॉक्टर के क्लीनिक पर नौकरी दिलवा दी. दो दिन तक काम करती रही, लेकिन दो दिन के बाद उसे नौकरी से निकाल दिया गया. इस पर पूजा ने उसे अपनी मौसी झूमा के स्पा सेंटर पर नौकरी दिलवा दी. स्पा सेंटर में उसके साथ दुष्कर्म किया गया.

विरोध करने पर धमकाते थे

जब उसने विरोध किया तो पूजा, रुबेल इकबाल और सद्दाम ने उसके साथ मारपीट की. उसका अश्लील वीडियो दिखाते हुए धमकी दी कि वे लोग उसके वीडियो को वायरल कर देंगे, जिससे वह डर गई और स्पा सेंटर में कार्य करने लगी, लेकिन स्पा सेंटर में उसे हर रोज 10 से 15 लोगो से सम्बन्ध बनाने के लिए मजबूर किया जाने लगा. पीड़िता के परिजनों को जब इसकी भनक लगी तो उन्होंने मासूम को छुड़ाया और पुलिस को मामले की सूचना दी. पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है.

See also  उत्‍तराखंड के दूसरे CM रहे हैं भगत सिंह कोश्‍यारी, अब महाराष्‍ट्र के CM पर लेना है फैसला!

यह कोई पहला मामला नहीं

नौकरी के नाम पर किसी मासूम की अस्मत से खिलवाड़ का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी अनेक मामले इस तरह के सामने आते रहे है. हालांकि निर्भया कांड के बाद लड़कियों की अस्मत से खिलवाड़ करने के मामले में कानून में भी बदलाव करते हुए इसे कॉफी सख्त बनाया गया है. बावजूद इसके इस तरह के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं.

Tags: Haryana police

Leave a Reply

Your email address will not be published.