पूरी तरह से नियंत्रण में पूर्वी थिएटर, PLA पर कड़ी नजर, सेना सीमा पर सतर्क और चौकस- जनरल कलिता

हाइलाइट्स

‘पूर्वी थिएटर में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर स्थिति ‘काफी शांत’ और मजबूती के साथ नियंत्रण में’.
चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की गतिविधियों पर कड़ी नजर.
सेना सीमाओं पर हर घटनाक्रम को लेकर सतर्क और चौकस.

किबिथू (अरुणाचल प्रदेश). ईस्टर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल राणा प्रताप कलिता ने सोमवार को कहा है कि पूर्वी थिएटर में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर स्थिति ‘काफी शांत’ और ‘मजबूती के साथ नियंत्रण में’ है. इसके साथ ही भारतीय सेना किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है. उन्होंने आगे कहा कि भारतीय सेना का ध्यान अपनी सैन्य क्षमता को बढ़ाने और एलएसी के साथ चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा गतिविधियों की निगरानी बढ़ाने पर रहा है.

न्यूज एजेंसी PTI के अनुसार कलिता ने आगे कहा कि भारतीय सेना का ध्यान अपनी सैन्य क्षमता को बढ़ाने और एलएसी के साथ चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा गतिविधियों की निगरानी बढ़ाने पर रहा है. कमांडर ने कहा कि क्षेत्र में स्थिति स्थिर है और रुख में कोई बड़ा बदलाव नहीं दिखा है. हालांकि पूर्वी लद्दाख के डेमचोक तथा देपसांग में भारतीय तथा चीनी सैनिकों के बीच गतिरोध बना हुआ है.

पूर्वी थिएटर में सेना अब बेहतर स्थिति में 
उन्होंने कहा कि एलएसी के करीब बुनियादी ढांचे को बढ़ाने और ड्रोन, हेलीकॉप्टर और इलेक्ट्रॉनिक निगरानी उपकरण जैसे विभिन्न प्लेटफार्मों को शामिल करने के साथ पूर्वी थिएटर में अपनी रुचि के क्षेत्र की निगरानी करने के लिए सेना अब बेहतर स्थिति में है. मालूम हो कि पूर्वी थिएटर में बड़े पैमाने पर सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में एलएसी के साथ सीमावर्ती क्षेत्र शामिल हैं. सीमावर्ती क्षेत्रों में तवांग और उत्तरी सिक्किम क्षेत्रों सहित कई संवेदनशील क्षेत्र हैं.

See also  Bollywood Wrap: Prabhas के परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़, फिर करीब आ रहे हैं Kartik Aaryan और Sara Ali Khan Bollywood Wrap: Bollywood Wrap: Prabhas's uncle passes away, Sara Ali Khan and Kartik Aaryan

लेफ्टिनेंट जनरल कलिता ने कहा, “मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि भारतीय सेना पूर्वी थिएटर में किसी भी घटना से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है. चीन के साथ सीमा मुद्दे पर सभी स्तरों पर निपटा जा रहा है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि कोई टकराव न हो. उन्होंने चीन के पास लोहित घाटी में एक प्रमुख सीमा चौकी किबिथू में पत्रकारों के एक समूह के साथ अनौपचारिक बातचीत के दौरान यह टिप्पणी की.

गतिविधियों पर लगातार नजर 
उन्होंने आगे कहा कि हम सीमाओं पर गतिविधियों पर लगातार नजर रख रहे हैं. हम अपनी सीमाओं पर हर घटनाक्रम को लेकर सतर्क और चौकस हैं. भारत पूर्वी लद्दाख में पांच मई, 2020 से शुरू हुए गतिरोध के बाद से करीब 3,500 किलोमीटर लंबी एलएसी पर बुनियादी ढांचे के विकास में तेजी ला रहा है.

पूर्वी सैन्य कमांडर ने आगे कहा कि भारत और चीन के पास क्षेत्र में किसी भी उभरती स्थिति को टालने के लिए द्विपक्षीय समझौतों के अनुरूप हमारे पास एक मजबूत तंत्र है. उन्होंने कहा कि ‘हमारे पास एक मजबूत तंत्र है जो मौजूदा द्विपक्षीय समझौतों और विभिन्न प्रोटोकॉल के अनुसार किसी भी उभरती स्थिति एवं सामरिक स्तर पर तनाव को कम करने के लिए है.

गोगरा-हॉटस्प्रिंग्स क्षेत्र से हटीं दोनों देश की सेना
भारतीय और चीनी सेनाओं ने गुरुवार को घोषणा की थी कि उन्होंने पूर्वी लद्दाख के गोगरा-हॉटस्प्रिंग्स क्षेत्र में ‘पेट्रोलिंग प्वाइंट 15’ से पीछे हटना शुरू कर दिया है, जो अब दोनों देशों की सेनाएं इस इलाके से पूरी तरह पीछे हट गई है. वहीं, डेमचोक और देपसांग क्षेत्रों में गतिरोध को हल करने के प्रयासों में अभी तक कोई प्रगति नहीं हुई है. (भाषा इनपुट के साथ)

See also  लालू के बड़े लाल तेजप्रताप ने भुला दी तल्खियां, जगदानंद सिंह ने गुलदस्ता देकर किया जोरदार स्वागत

Tags: India china border dispute, Indian army

Leave a Reply

Your email address will not be published.