लाॅ मिनिस्ट्री का निर्देश- अब सभी विभागों को पहले अटाॅर्नी जनरल के सामने पेश करने होंगे अपने कानूनी मामले

हाइलाइट्स

देश के नए अटाॅर्नी जनरल मुकुल रोहतगी 1 अक्टूबर को पद ग्रहण करेंगे
उससे पहले कानून मंत्रालय ने सभी विभागों को पत्र लिखकर दिया निर्देश
विभागों को अपने कानूनी मामलों को पहले AG के सामने पेश करना होगा

नई दिल्लीः वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी देश के अगले अटॉर्नी जनरल (महान्यायवादी) नियुक्त होने वाले हैं. वह एक अक्टूबर को यह पद संभाल लेंगे. वह जून 2014 से जून 2017 के बीच देश के अटॉर्नी जनरल रह चुके हैं. बता दें कि रोहतगी वर्तमान अटॉर्नी जनरल के.के वेणुगोपाल की जगह लेंगे. अटॉर्नी जनरल का कार्यकाल आमतौर पर तीन वर्ष का होता है.  उनका दूसरा कार्यकाल शुरू होने से पहले कानून मंत्रालय ने एक बड़ा फैसला लिया है. अपने एक आदेश में कानून मंत्रालय ने सभी विभागों से कहा है कि वे कानूनी मामलों को सबसे पहले अटॉर्नी जनरल के सामने पेश करें. इसकी पूरी सूची उन्हें सौंपी जाए, ताकि वह तय कर सकें कि किन-किन मामलों में अदालत में उनका खुद मौजूद रहना जरूरी है.

आदेश में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट में रोजाना पेश किए जाने वाले मामलों को सबसे पहले देश के अटॉर्नी जनरल के सामने सूचीबद्ध किया जाएगा. पहले अटॉर्नी जनरल अपने लिए केस को चुनेंगे, इसके बाद सॉलिसिटर जनरल अन्य मामलों को खुद के लिए चुनेंगे. इसके साथ ही वह बचे हुए मामलों का बंटवारा एडिशनल सॉलिसिटर जनरल और सरकारी वकीलों को करेंगे. एडिशनल सॉलिसिटर जनरल या सरकारी वकील या तो कोर्ट में अकेले पेश होंगे और या फिर अटॉर्नी जनरल या सॉलिसिटर जनरल के साथ पेश होंगे. कानून मंत्रालय के कानूनी मामलों से संबंधित विभाग ने इस संबंध में 13 सितंबर को पत्र जारी कर सभी विभागों को निर्देशित किया था और सेंट्रल एजेंसी सेक्शन के अफसरों से कहा था कि वे इस पूरी प्रक्रिया का पालन सख्ती से करें.

See also  Opinion: बच्चा आपके सपने क्यों ढोए? उसे खुद के लिए नए सपने देखने की प्रेरणा दें

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : September 16, 2022, 11:01 IST

Leave a Reply

Your email address will not be published.